सभी चैनल अपनी TRP आपको बेवकूफ बना रहे हैं, 5 राज्यों के असली रिजल्ट ये होगे !

नई दिल्ली: हाल ही में हुए पांच राज्यों के चुनाव के नतीजे 11 मार्च को आ रहे हैं हालाँकि कई मीडिया चैनलों ने Exit Poll के नतीजे देकर जनता को भ्रमित करना शुरू कर दिया है और यह सब सिर्फ TRP बढ़ाने और सट्टेबाजों का धंधा बढ़ाने के लिए किया  गया है, वैसे तो Exit Poll जारी करने की जरूरत ही नहीं है फिर भी मीडिया के लोग Exit Poll जारी करते हैं और प्लस माइनस का गेम खेलकर असली नतीजे जानते हुए भी उसे दिखाते नहीं हैं। इस सब के पीछे मीडिया चैनलों की चाल होती है, इनका मकसद सिर्फ पिचाल करना और अपनी TRP बढ़ाना होता है।
अब आप खुद देखिये, पंजाब में मीडिया चैनलों ने अपने सभी Exit Poll में बीजेपी और अकाली दल को साफ़ कर दिया, जबकि ऐसा होता नहीं, यहाँ पर अकाली दल और बीजेपी को भले ही बहुमत ना मिले लेकिन कम से कम 35-40 सीटें जरूर आएंगी और 25-30 सीटें कांग्रेस और आम आदमी पार्टी की भी आएंगी।
हम यह नहीं कहते कि पंजाब में अकाली दल के खिलाफ एंटी इंकमबंसी नहीं है लेकिन यह भी सच है कि आजकल की जनता समझदार हो गयी है, हर आदमी अपना अच्छा बुरा समझता है, अगर आपको ध्यान हो तो सिर्फ एक हप्ते पहले दिल्ली में गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के नतीजे आये थे और अकाली दल को 45 में से 36 सीटें मिली थीं, आप और कांग्रेस का सूपड़ा साफ़ हो गया था, क्या कोई सोच सकता है कि केजरीवाल के गढ़ दिल्ली में अकाली दल की जीत हो सकती है, नहीं, लेकिन जीत हुई। ऐसे ही पंजाब में होगा, वहां पर त्रिकोणीय मुकाबला जरूर होगा लेकिन अकाली दल की इतनी कम सीटें भी नहीं आएंगी।
अब आप खुद सोचिये, जब दिल्ली के पंजाबी अकाली दल को वोट दें सकते हैं तो क्या पंजाब के पंजाबी यानी सिख अकाली दल को वोट नहीं देंगे। इसलिए Exit Poll के नतीजे गलत होंगे।
अब आते हैं यूपी के नतीजों पर, यहाँ के सभी Exit Poll में बीजेपी को आगे दिखाया जा रहा है लेकिन पूर्ण बहुमत कोई Exit Poll नहीं दे रहा है, हम बताते हैं हुआ क्या है, जिन वोटरों ने 2007 चुनावों में बसपा को वोट दिया था उन्होंने 2012 में सपा को वोट दिया था और उन्हीं लोगों ने 2017 में बीजेपी को वोट दिया था। अब आप खुद सोचिये सपा और बसपा को वोट किसने दिया होगा। हम बताते हैं – सपा और बसपा को सिर्फ घोर जातिवादी हिन्दुओं जैसे यादव, दलित और मुस्लिमों ने वोट दिया होगा। जिन लोगों ने 2007 में मायावती को जिताया और 2012 में समाजवादी पार्टी को जिताया उन्होंने लोगों ने 2017 बीजेपी को वोट दिया है और एकतरफा वोट बीजेपी को गया है यहाँ तक अमेठी में भी इस बार बीजेपी की जीत होने वाली है और 100 फ़ीसदी जीत होगी।
मीडिया चैनल भी जानते हैं कि UP में बीजेपी को पूर्ण बहुमत मिलेगा लेकिन वह केवल बहुमत से थोडा कम दिखाते हैं और दूसरी पार्टियों को भी टक्कर में दिखा देते हैं ताकि सट्टेबाज लोग सभी पार्टियों पर सट्टा लगाएं अरु गोरखधंधा चले। मीडिया चैनलों का Exit Poll सिर्फ प्रायोजित होता है और इनका मकसद सच दिखाना होता ही नहीं है।

http://tomtwomeyseries.org/thomas-l-manson-may-groot-manson-home-main-street-east-hampton/ सबसे जरूरी बात यह जान लीजिये कि ये मीडिया वाले किसी गाँव में Exit Poll करने नहीं जाते हैं, ये गाँव के लोगों से नहीं पूछते कि किसे वोट दिया है, ये लोग सिर्फ बड़े शहरों में 100 में से 10 लोगों ने पूछते हैं कि आपने किसे वोट दिया है, उन्हीं 10 लोगों के जवाब के आधार पर Exit Poll के नतीजे जारी किये जाते हैं, एक तरह से ये सैंपल सर्वे होता है।मतलब Exit Poll वाले पूरी तरफ से गलत होगे और असल रिजल्ट वही होगा जो अभी पांच राज्यों में स्थानीय चुनावों में हुआ था, पंजाब को छोड़कर सभी राज्यों में बीजेपी को बहुमत मिलेगा। UP में 300 के आसपास सीटें मिलेगीं क्योंकि इस बार पूरे उत्तर प्रदेश में बीजेपी की लहर है।

ब आते हैं उत्तराखंड में, यहाँ पर कुछ Exit Poll में बीजेपी को बहुमत तो मिल रहा है लेकिन सिर्फ देहरादून और हरिद्वार में सैंपल सर्वे करके मीडिया वाले आ जाते हैं, कभी दूर सुदूर पहाड़े इलाकों में नहीं जाते, इसके अलावा मुख्यमंत्री हरीश रावत का अपनी सीट पिथोरागढ़ छोड़कर कहीं और से चुनाव लड़ना ही साबित करता है कि कांग्रेस कहीं भी लड़ाई में नहीं है।

इसी तरह से गोवा में भी होगा, वहां पर पढ़े लिखे लोग हैं और दुनियादारी को समझ चुके हैं, अब वे ना तो केजरीवाल की बातों में आने वाले हैं और ना ही कांग्रेस के, उन्हें पता है कि बीजेपी की सरकार बनाने के बाद ही केंद्र सरकार की योजनाओं का लाभ मिलेगा और विकास होगा इसलिए वहां भी पूर्ण बहुमत मिलेगा।

मणिपुर के बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता क्योंकि वहां पर बीजेपी का सिर्फ एक विधायक है और वह भी TMC छोड़कर आया हुआ है, वहां पर पिछली बार कांग्रेस का बहुमत था लेकिन इस बार सभी Exit Poll बीजेपी को आगे दिखा रहे हैं इसका मतलब है कि बीजेपी को बहुमत मिलने वाला है।