Roti vs Rice: Which is better for your health? | Guru Mann | Health And Fitness

0:18 / 2:19 YouTube Healthy Food || Health And Fitness || Mardana taaqat || Jawani || Fitness Tips Hindi \ Urdu

The New Hair Growth Supplement That is Sweeping the Nation

enter Scientists are calling this a breakthrough in hair loss. Should it be legal to buy without a prescription?

Scientists are calling this is the ultimate “cure” for hair loss.
Many men & women across all age groups experience receding hairlines, thinning hair, or baldness sometime during their life. What if there was a pill that could put the hair back on your head in a matter of weeks? A new scientific formula is showing promising signs of doing just this.

Clinical Trials have shown that the ingredients in this pill can restart hair growth and reverse the balding process faster & safer then anything else available on the market today. It is being touted as a medical hair breakthrough and 98% of users are seeing the results. Users of this supplement are feeling and looking better about themselves then they have in recent memory, and in some cases decades.

“You forget how much you miss your hair, until you grow it back. I look younger, and feel great with a full head of hair again! It’s been years since I’ve felt this good about myself.” George Harris 48, GA.

Welcome To The Future of Hair Growth

buy modafinil in the uk Welcome To The Future of Hair Growth buy Dilantin online ukSince coming back on the marketplace early last October, the legal anti-baldness supplement known as FollicleRX has skyrocketed across the US and internationally. Both men & women of all ages benefit tremendously while using the product and It’s being called the largest breakthrough in hair growth to date. Now that the makers of the products have been given the green light to sell again, many people are taking full advantage of its availability to buy it online without a prescription – well they still can.

 

There has been much controversy around this hair growth booster, not only among countless celebs in Hollywood, but also in the media. Sales of FollicleRX have tripled overnight, as men and women alike all want to get their hands on this powerful supplement. FollicleRX, which has no recorded side effects in any clinical trials, was soon the target of critics who claim it was too powerful to be sold without a prescription, while other supporters insist that FollicleRX is a safer and more effective alternative then that of any drug, or procedure currently available on the marketplace.

Surveys suggest most balding men go through their life blaming baldness above other physical conditions for their lack of confidence with women; this is one of problems FollicleRX has solved for many of its users. “Now that I have hair on my head, I’m told I look fifteen years younger and my confidence is back.” Andy Donald 57, CA.

Does FollicleRX Work & How?

Does FollicleRX work? Judging from the success people are having from using FollicleRX, the answer is yes. If you’re looking to halt your hair loss and to regrow your hair, FollicleRX is one of the proven heavy hitters. FollicleRX’s ingredients are verified as potent DHT-inhibitors, eliminating hair loss from the source of the problem. The ingredients contained in the supplement have also been shown to increase the bulb size of the hair follicle, which can help hair to appear both fuller and healthier. Users claim that they notice a difference in their hair after they have begun the first regime of the product. Although FollicleRX is marketed towards men, it also carries the same results among female users.

 

FollicleRX uses an inside-out approach, similar to the prescription medication. Human hair begins growing from a root in the bottom of the hair follicle. The root is made up of protein cells. Blood from the blood vessels in your scalp feed the root, which creates more cells and creates hair growth. FollicleRX’s ingredients are formulated to activate in the blood vessels in the scalp, which in turn improves microcirculation, therefore, reinvigorating the hair follicle again for hair growth. FollicleRX has also been shown to nourish the root and strengthen the hair wires, creating fuller, healthier hair while revitalizing old follicles for rapid growth at the same time.

 

“Clinical photos (below) show the powerful affects FollicleRX has on its users. Users usually see major results within the first 4 weeks of taking FollicleRX.”

 


“We tested it ourselves – is it all hype?”

 

Overall, FollicleRX appears to be great answer to many common hair loss conditions; that said, even with all the hype and certancy around this product, we at Daily Health Club wanted to verify if it for ourselves.

We asked ourselves… Does FollicleRX live up to all the hype surrounding it? And how do we know for sure? To better answer this, one of our senior editors Ted Kane, decided to step up to the plate to test and document all the effects of FollicleRX for himself, during the course of a 8 week test run for this article.

Senior Editor Ted Kane

Week 1

When the pills arrived, I couldn’t wait to give them a shot, as I am a 43-year-old male who has been dealing with baldness for the past 12 – 15 years.
I have tried everything in the past, and eventually gave up trying because nothing
worked. I have tried Propitia (Finasteride), laser combs, liquids, Rogaine the list goes on and on… Although I did see a little success with a couple of the methods mentioned above, it was nothing like I was hoping for. I have my figures crossed that this product will yield better results.
Let me be the first to say, this product is in hot demand. At the time, when I initially went to the website to order FollicleRX, the company was sold out and not taking anymore orders. I checked the website again last week and I was lucky enough to get my hands on them, so I stocked up incase they were to sell out again, and to give my self the best chance of success.

For the first week I took the recommended dose of two tablets a day, before any meal. It’s recommended to take two pills a day for the first 15 days of use, then after 15 days to drop the dosage to 1 per day. This is known as front loading, it is done so one can quickly reach peak blood level and get the ingredients working within the body quickly.

 

Week 3

I must say I am shocked with how fast acting this stuff really is. It’s nothing short of amazing. I know the instructions recommend an 8-12 week regiment, but I can say there is a lot more hair on my head already then there has been in a very long time. I waited until today to update this entry because even though 80% of my head is bald, I still do see a barber from time to time to clean up the hair I have left. Let me tell you, the look on my barbers face when I walked in the door…. He was stunned by the amount of new hair growth there was since my last visit. Where it was completely bald before, there was now new ¼ inch hair growth occurring throughout my scalp. So far I was very impressed and could not wait to see how I would look at the end of my regiment.

 

Week 7

 

It is week seven, one week before my 8-week regiment in complete and I am sold. FollicleRX is hands down the best hair health and regrowth formula on the market. It’s no wonder so many celebs kept it hidden away for so long. I can’t believe my eyes, and either can anyone else. By adding hair to my head, I look younger, feel better about myself and have new confidence I haven’t felt in years.
For the first time in I don’t know how long, I had women flirt with me! I know that not applicable for all our readers, but I’m single and it feels great. I don’t know if it’s because I look better, or that I just have more confidence these days now that there is more hair on my head. Remember those ¼ hair sprouts I mentioned in week one, well the have all now grown 1- 2.5 inches. I actually needed a trim!

 

 
My thoughts on FollicleRX?
The pills are the real deal. As mentioned I’ve tried many other methods for my hair loss, but this is by far the best one out there. Since our test I have bought more to make sure I never run out, as FollicleRX can be hard to get a hold, due to the increasing demand. If you happen to come across FollicleRX, I highly recommend trying it as it could be an important step to becoming the person you want to be.

**Because of recent coverage in the media, supplies are running very low.
You can check to see if FollicleRX is still available here**

 

The Verdict:

Using FollicleRX has been clinically proven to:

  • Increase hair growth by 380%
  • Improve fullness of hair
  • Regrow new hair
  • Prevent hair fall
  • Produce Shinier, thicker hair

Will This Work For You?

There are plenty of hair growth gimmicks out there, and most of them are ridiculously expensive. With so many options it’s only natural for you to be skeptical about the results, and so we don’t want to promise our readers anything, we simply want to challenge you to do what Ted recommends: Try it for yourself! You won’t believe YOUR before and after!

For your convenience, we have provided the links that Ted used to sign up for her promo offer of FollicleRX. Use the links below and you will get the lowest possible shipping price as well.

Remember, FollicleRX comes with a 100% satisfaction guarantee or full money back. But hurry, these incredible products won’t last forever.

Will you be one of the lucky few who have their hands on this product?

नीम के विभिन्न उपयोग: Different use of neem

 नीम में इतने गुण हैं कि ये कई तरह के रोगों के इलाज में काम आता है। यहाँ तक कि इसको भारत में ‘गांव का दवाखाना’ कहा जाता है। यह अपने औषधीय गुणों की वजह से आयुर्वेदिक मेडिसिन में पिछले चार हजार सालों से भी ज्यादा समय से इस्तेमाल हो रहा है। नीम को संस्कृत में ‘अरिष्ट’ भी कहा जाता है, जिसका मतलब होता है, ‘श्रेष्ठ, पूर्ण और कभी खराब न होने वाला।’
नीम के अर्क में मधुमेह यानी डायबिटिज, बैक्टिरिया और वायरस से लड़ने के गुण पाए जाते हैं। नीम के तने, जड़, छाल और कच्चे फलों में शक्ति-वर्धक और मियादी रोगों से लड़ने का गुण भी पाया जाता है। इसकी छाल खासतौर पर मलेरिया और त्वचा संबंधी रोगों में बहुत उपयोगी होती है।
इसके पत्तों में मौजूद बैक्टीरिया से लड़ने वाले गुण मुंहासे, छाले, खाज-खुजली, एक्जिमा वगैरह को दूर करने में मदद करते हैं। इसका अर्क मधुमेह, कैंसर, हृदयरोग, हर्पीस, एलर्जी, अल्सर, हिपेटाइटिस (पीलिया) वगैरह के इलाज में भी मदद करता है।
नीम के बारे में उपलब्ध प्राचीन ग्रंथों में इसके फल, बीज, तेल, पत्तों, जड़ और छिलके में बीमारियों से लड़ने के कई फायदेमंद गुण बताए गए हैं। प्राकृतिक चिकित्सा की भारतीय प्रणाली ‘आयुर्वेद’ के आधार-स्तंभ माने जाने वाले दो प्राचीन ग्रंथों ‘चरक संहिता’ और ‘सुश्रुत संहिता’ में इसके लाभकारी गुणों की चर्चा की गई है।
नीम के पत्तों में जबरदस्त औषधीय गुण तो है ही, साथ ही इसमें प्राणिक शक्ति भी बहुत अधिक है। अमेरिका में आजकल नीम को चमत्कारी वृक्ष कहा जाता है। दुर्भाग्य से भारत में अभी लोग इसकी ओर नहीं दे हैं। अब वे नीम उगाने की कोशिश कर रहे हैं, क्योंकि नीम को अनगिनत तरीकों से इस्तेमाल किया जा सकता है। अगर आपको मानसिक बिमारी है, तो भारत में उसको दूर करने के लिए नीम के पत्तों से झाड़ा जाता है। अगर आपको दांत का दर्द है, तो इसकी दातून का इस्तेमाल किया जाता है। अगर आपको कोई छूत की बीमारी है, तो नीम के पत्तों पर लिटाया जाता है, क्योंकि यह आपके सिस्टम को साफ कर के उसको ऊर्जा से भर देता है। अगर आपके घर के पास, खास तौर पर आपकी बेडरूम की खिड़की के करीब अगर कोई नीम का पेड़ है, तो इसका आपके ऊपर कई तरह से अच्छा प्रभाव पड़ता है।
बैक्टीरिया से लड़ता नीम
दुनिया बैक्टीरिया से भरी पड़ी है। हमारा शरीर बैक्टीरिया से भरा हुआ है। एक सामान्य आकार के शरीर में लगभग दस खरब कोशिकाएँ होती हैं और सौ खरब से भी ज्यादा बैक्टीरिया होते हैं। आप एक हैं, तो वे दस हैं। आपके भीतर इतने सारे जीव हैं कि आप कल्पना भी नहीं कर सकते। इनमें से ज्यादातर बैक्टीरिया हमारे लिए फायदेमंद होते हैं। इनके बिना हम जिंदा नहीं रह सकते, लेकिन कुछ ऐसे भी होते हैं, जो हमारे लिए मुसीबत खड़ी कर सकते हैं। अगर आप नीम का सेवन करते हैं, तो वह हानिकारक बैक्टीरिया को आपकी आंतों में ही नष्ट कर देता है।
आपके शरीर के भीतर जरूरत से ज्यादा बैक्टीरिया नहीं होने चाहिए। अगर हानिकारक बैक्टीरिया की तादाद ज्यादा हो गई तो आप बुझे-बुझे से रहेंगे, क्योंकि आपकी बहुत-सी ऊर्जा उनसे निपटने में नष्ट हो जाएगी। नीम का तरह-तरह से इस्तेमाल करने से बैक्टीरिया के साथ निपटने में आपके शरीर की ऊर्जा खर्च नहीं होती।
आप नहाने से पहले अपने बदन पर नीम का लेप लगा कर कुछ वक्त तक सूखने दें, फिर उसको पानी से धो डालें। सिर्फ इतने से ही आपका बदन अच्छी तरह से साफ हो सकता है – आपके बदन पर के सारे बैक्टीरिया नष्ट हो जाएंगे। या फिर नीम के कुछ पत्तों को पानी में डाल कर रात भर छोड़ दें और फिर सुबह उस पानी से नहा लें।
एलर्जी के लिए नीम
नीम के पत्तों को पीस कर पेस्ट बना लें, उसकी छोटी-सी गोली बना कर सुबह-सुबह खाली पेट शहद में डुबा कर निगल लें। उसके एक घंटे बाद तक कुछ भी न खाएं, जिससे नीम ठीक तरह से आपके सिस्टम से गुजर सके। यह हर प्रकार की एलर्जी – त्वचा की, किसी भोजन से होनेवाली, या किसी और तरह की – में फायदा करता है। आप सारी जिंदगी यह ले सकते हैं, इससे कोई नुकसान नहीं होगा। नीम के छोटे-छोटे कोमल पत्ते थोड़े कम कड़वे होते हैं, वैसे किसी भी तरह के ताजा, हरे पत्तों का इस्तेमाल किया जा सकता है।

जोड़ों, घुटनों,गठिया संधिवात के दर्द की सरल चिकित्सा Home Remedies to cure gout,knee and Joint Pain

जोड़ की पीड़ा, घुटनों का दर्द,संधिवात या गठिया की समस्या को ठीक करने के लिए
निम्न अनुभूत उपचार करके लाभ उठान चाहिए-…
1) भोजन द्वारा इलाज के अंतर्गत रोजाना ३-४ खारक खाते रहने से घुटनों की शक्ति को
बढ़ाया जा सकता है| अस्थियों को मजबूत बनाए रखने के लिए केल्शियम का सेवन करना उपकारी है| केल्शियम की ५०० एम् जी की गोली सुबह शाम लेते रहें| | दूध ,दही,ब्रोकली और मछली में पर्याप्त केल्शियम होता है|
2) घुटनों के लचीलेपन को बढाने के लिए दाल चीनी,जीरा,अदरक और हल्दी का उपयोग
उत्तम फलकारी है| इन पदार्थों में ऐसे तत्त्व पाए जाते हैं जो घुटनों की सूजन और दर्द का
निवारण करते हैं|
3) मैथी दाने, सौंठ और हल्दी समान मात्रा में मिलाकर, पीसकर नित्य सुबह-शाम भोजन
करने के बाद गरम पानी से, दो-दो चम्मच फ़की लेने से लाभ होता है|
4) रोज सुबह भूखे पेट एक चम्मच कुटे हुए मैथी दाने में 1 ग्राम कलौंजी मिलाकर एक बार फाँकी लें|
5) घुटनों में दर्द को कम करने के लिए गरम या ठंडे पेड से सिकाई की जरूरत हो सकती है|

6) घुटनों में तीव्र पीड़ा होने पर आराम की सलाह डी जाती है ताकि दर्द और सूजन कम
हो सके\ फिजियो थेरपी में चिकित्सक विभिन्न प्रक्रियाओं के द्वारा घुटनों के दर्द
और सूजन को कम करने का प्रयास करते है|
7) तीस  की उम्र के बाद मैथी दाने की फाँकी लेने से शरीर के जोड़ मजबूत बने रहते हैं तथा बुढ़ापे तक मधुमेह, ब्लड प्रेशर और गठिया जैसे रोगों से बचाव होता है|
8) मैथी दानों को तवे या कढ़ाही में गुलाबी होने तक सेकें. ठंडा होने पर पीस लें. रोज
सुबह खाली पेट आधा चम्मच, एक गिलास पानी के साथ लें|

 

9) मैथी दानों को दरदरा कूटकर सर्दियों में 2 चम्मच और गर्मी में एक चम्मच की फाँकी
सुबह-सुबह खाली पेट पानी के साथ लें|
10) नीम का तेल एवं अरंडी का तेल बराबर मात्रा में मिलाकर सुबह-शाम इसकी मालिश
कीजिए.
11) मैथी दाने हमेशा सुबह खाली पेट जबकि दोपहर और रात में खाना खाने के बाद, आधा चम्मच मात्रा, पानी के साथ फाँकने से सभी जोड़ मजबूत रहेंगे और जोड़ों में किसी भी प्रकार का दर्द कभी नहीं होगा|
12) हल्दी-चूर्ण, गुड़, मैथी दाना पाऊडर और पानी सामान मात्रा में मिलाकर, गरम करके
इनका लेप, रात को घुटनों पर करें व पट्टी बाँधकर रातभर बंधे रहने दें. सुबह पट्टी हटा कर
साफ कर लें. कुछ ही दिनों में जबरदस्त फायदा महसूस होने लग जाएगा|
13) अलसी के दानों के साथ 2 अखरोट की मिगी सेवन करने से जोड़ों के दर्द में आराम
मिलता है|14) मैथी के लड्डू खाने से हाथ-पैर और जोड़ों के दर्दो में आराम मिलता है|
15) अँकुरित मैथी दाने खाएँ और उसके खाने के बाद आधे घंटे तक कुछ न खाएँ.
16) अगर कैल्शियम की कमी से जोड़ों का दर्द हो तो खाने वाला चूना खाईए. गेंहू के
दाने के आकार का चूना दही या दूध में घोल कर दिन में एक बार के हिसाब से, 90 दिन
तक लीजिए. ध्यान रखें 90 दिन से अधिक नहीं लेना है|
17) मैथी के बीज संधिवात की पीड़ा निवारण करते हैं| एक चम्मच मैथी बीज रात भर
साफ़ पानी में गलने दें | सुबह पानी निकाल दें और मैथी के बीज अच्छी तरह चबाकर
खाएं| शुरू में तो कुछ कड़वा लगेगा लेकिन बाद में कुछ मिठास प्रतीत होगी| भारतीय
चिकित्सा में मैथी बीज की गर्म तासीर मानी गयी है| यह गुण जोड़ों के दर्द दूर करने में
मदद करता है|

18) गरम तेल से हल्की मालिश करना घुटनों के दर्द में बेहद उपयोगी है|ये तेल बना के आप हमेशा के लिए रखेँ :
लहसुन – 50 ग्राम
अजवाइन – 25 ग्राम
लौंग – 10 ग्राम
उपरोक्त तीनो चीजो को 200 ग्राम सरसों के तेल में पका के जला दे और ठंडा होने पे
कांच की शीशी में छान कर रख ले ,इस तेल से घुटनों या जोड़ों की मालिश करने से दर्द में
तुरंत राहत मिल जाती है| इस तेल में संधिवात की सूजन दूर करने के गुण हैं| घुटनों की पीड़ा निवारण की यह असरदार चिकित्सा है|

19) प्याज अपने सूजन विरोधी गुणों के कारण घुटनों की पीड़ा में लाभकारी हैं| दर असल
प्याज में फायटोकेमीकल्स पाए जाते हैं जो हमारे इम्यून सिस्टम को ताकतवर बनाते हैं|
प्याज में पाया जाने वाला गंधक जोड़ों में दर्द पैदा करने वाले एन्जाईम्स की उत्पत्ति
रोकता है| एक ताजा रिसर्च में पाया गया है कि प्याज में मोरफीन की तरह के पीड़ा
नाशक गुण होते हैं|
20) अगर घुटनों की चिकनाई ख़तम हुई हो गई हो और जोड़ो के दर्द में किसी भी प्रकार
की दवा से आराम ना मिलता हो तो ऐसे लोग हारसिंगार (पारिजात) पेड़ के 12 पत्तों
को कूटकर 1 गिलास पानी में उबालें. जब पानी एक चौथाई बच जाए तो बिना छाने
ही ठंडा करके पी लें. 90 दिन में चिकनाई पूरी तरह वापिस बन जाएगी. अगर कुछ कमी
रह जाए तो 1 महीने का अंतर देकर फिर से 90 दिन तक इसी क्रम को दोहराएँ. निश्चित
लाभ की प्राप्ति होती है|
21) गाजर में जोड़ों में दर्द को दूर करने के गुण मौजूद हैं |चीन में सैंकडों वर्षों से गाजर का
इस्तेमाल संधिवात पीड़ा के लिए किया जाता रहा है| गाजर को पीस लीजिए और
इसमें थोड़ा सा नीम्बू का रस मिलाकर रोजाना खाना उचित है| यह घुटनों के
लिगामेंट्स का पोषण कर दर्द निवारण का काम करता है|
22) प्रतिदिन नारियल की गिरी का सेवन करें|इससे घुटनों को ताकत आती है|
23) लगातार 20 दिनों तक अखरोट की गिरी खाने से घुटनों का दर्द समाप्त होता है।
24) बिना कुछ खाए प्रतिदिन प्रात: एक लहसन कली, दही के साथ दो महीने तक लेने से
घुटनों के दर्द में चमत्कारिक लाभ होता है।

थैलेसीमिया रोग की जानकारी और उपचार

थैलेसीमिया क्या है?
यह आनुवांशिक रोग जितना घातक है, इसके बारे में जागरूकता का उतना ही अभाव है। सामान्य रूप से शरीर में लाल रक्त कणों की उम्र करीब 120 दिनों की होती है, परंतु थैलेसीमिया के कारण इनकी उम्र सिमटकर मात्र 20 दिनों की हो जाती है। इसका सीधा प्रभाव शरीर में स्थित हीमोग्लोबीन पर पड़ता है।

थैलेसीमिया रक्त सम्बन्धी वंशानुगत रोग है जिसमें आपके शरीर में हीमोग्लोबिन की मात्रा सामान्य से कम और लाल रक्त कणिकाएँ केवल थोड़ी मात्रा में ही होती हैं। हीमोग्लोबिन आपकी लाल रक्त कणिकाओं में उपस्थित प्रोटीन है जो उन्हें ऑक्सीजन ले जाने में मदद करता है। यह रोग वंशानुगत है, अर्थात आपके माता-पिता में कम से कम कोई एक इस रोग का वाहक रहा है। यदि वे दोनों थैलेसीमिया के वाहक हैं तो आपको इस रोग का 25% अधिक गंभीर रूप प्राप्त होता है। थैलेसीमिया के कारण उत्पन्न हीमोग्लोबिन की कम मात्रा और केवल कुछ लाल रक्त कणिकाओं की उपस्थिति, रक्ताल्पता उत्पन्न करती है और इस कारण आपको थकावट होती है।
थैलेसीमिया के कई प्रकार होते हैं, जिनमें अल्फा-थैलेसीमिया, बीटा-थैलेसीमिया, कूलेस एनीमिया, और भूमध्यसागरीय एनीमिया हैं।

रोग अवधि
हम ठीक होने में लगने वाले समय का अंदाजा नहीं लगा सकते।
जाँच और परीक्षण रक्त परीक्षण
कम्पलीट ब्लड काउंट
रेटिक्यूलोसाईट काउंट
आयरन
अनुवांशिकता जाँच
प्रसव पूर्व परीक्षण
कोरिओनिक विलस सैंपलिंग
एम्नियोसेंटेसिस
डॉक्टर द्वारा आम सवालों के जवाबQ1.थैलेसीमिया क्या है?थैलेसीमिया वंशानुगत विकार है जिसमें हीमोग्लोबिन का संश्लेषण दोषयुक्त होता है। यह रक्ताल्पता के रूप में प्रकट होता है।
Q2. मुझे थैलेसीमिया कैसे हो सकता है?
यदि आपके माता-पिता में से किसी एक अथवा दोनों को थैलेसीमिया रोग है, या वे इसके वाहक हैं, तो आपको भी ये रोग हो सकता है।
Q3.मुझे थैलेसीमिया है, ये कैसे पता चलेगा? थैलेसीमिया रक्ताल्पता के रूप में प्रकट होता है। रक्त का आयरन परीक्षण इसे रक्ताल्पता के अन्य रूपों से अलग बताता है। हीमोग्लोबिन के इलेक्ट्रोफोरेसिस से रोग निश्चित पता चलता है।
Q4.थैलेसीमिया का उपचार क्या है?थैलेसीमिया के रोगियों को, रोग की गम्भीरता के आधार पर, बार-बार रक्त चढ़वाना पड़ता है। उन्हें आयरन की अधिक मात्रा को घटाने के लिए औषधियां भी लेनी होती हैं।
यदि तिल्ली (स्प्लीन) आकार में अत्यंत बढ़ गई है तो रक्त कणिकाओं के नष्ट होने को कम करने के लिए तिल्ली को शल्यक्रिया द्वारा हटाया जाता है।
थैलेसीमिया की नई उपचार पद्धति में, रोगी के किसी भाई-बहन के गर्भनाल में उपस्थित, रक्त कोशिका का प्रयोग होता है, जिसका लक्ष्य थैलेसीमिया का इलाज करना है।
Q5. क्या मैं थैलेसीमिया के साथ सामान्य जीवन जी सकता हूँ?मंद थैलेसीमिया के रोगी बिना किसी उपचार के सामान्य जीवन जी सकते हैं। लेकिन गंभीर थैलेसीमिया रोगियों को बार-बार रक्त चढ़वाना होता है और आयरन चेलेशान थेरेपी लेनी होती है, जो जीवन की गुणवत्ता को कम करते हैं।
Q6.थैलेसीमिया की अन्य समस्याएँ क्या हैं? थैलेसीमिया के रोगियों को बार-बार संक्रमण की संभावना होती है और अस्थि-मज्जा के विस्तार के कारण उनकी हड्डियाँ कमजोर और भुरभुरी हो जाती हैं। यह बच्चों में विकास को धीमा करता है और उनकी वयःसंधि भी विलंबित होती है।
यदि चेलेशान थेरेपी पर्याप्त और उचित नहीं है तो आयरन की अधिकता से ह्रदय, लिवर और भीतरी अंगों पर आयरन इकठ्ठा होने लगता है।
Q7.मैं थैलेसीमिया को कैसे रोक सकता हूँ?
विवाह पूर्व जीन सम्बन्धी उचित सलाह द्वारा बच्चों में थैलेसीमिया को रोका जा सकता है। थैलेसीमिया वाहक व्यक्तियों के आपसी वैवाहिक सम्बन्ध को रोका जाना चाहिए।

परहेज और आहार
लेने योग्य आहारकैल्शियम युक्त आहार अधिक मात्रा में लें। यह हड्डियों को स्वस्थ और मजबूत रखने के लिए अत्यंत जरूरी है। डेरी उत्पाद कैल्शियम का अच्छा स्रोत हैं। एक अतिरिक्त लाभ यह भी है कि डेरी उत्पाद शरीर के आयरन अवशोषण की क्षमता को कम करते हैं।
कैल्शियम के अवशोषण के लिए शरीर को विटामिन डी की आवश्यकता होती है। विटामिन डी अण्डों, डेरी उत्पादों और मछली में मिलता है।
इनसे परहेज करें
तरबूज, पालक, खुबानी, हरी पत्तेदार, एस्पार्गस, आलू, खजूर, किशिमिस, ब्रोकोली, फलियाँ, मटर, सूखी फलियाँ, दालें
आयरन की अधिक मात्रा
दलिया
चाय, कॉफ़ी
मसाले
योग और व्यायाम
व्यायाम नियमित करें और डॉक्टर से अपने लिए उचित व्यायाम कार्यक्रम की जानकारी लें।
घरेलू उपाय (उपचार)
अधिक मात्रा में रक्त चढ़वाने वाले लोगों को चेलेशान थेरेपी नामक उपचार की आवश्यकता होती है, ताकि शरीर के अधिक आयरन को हटाया जा सके।
यदि आप रक्त चढ़वा रहे हैं तो आपको आयरन के पूरक नहीं लेने चाहिए।
स्वास्थ्यवर्धक आहार लें।
संक्रमण ना होने दें।

रोकथाम (बचाव)
अधिकतर मामलों में थैलेसीमिया को रोका नहीं जा सकता।
यदि आपको थैलेसीमिया है, या आप थैलेसीमिया जीन के वाहक हैं, तो पिता बनने के पूर्व जीन सम्बन्धी सलाहकार से मार्गदर्शन लें।
ध्यान देने की बातें
चेहरे की हड्डियों में विकृति आना।
शारीरिक विकास में कमी।
साँस लेने में कमी।
पीली त्वचा (पीलिया)।
डॉक्टर को कब दिखाएँ
यदि आपको या आपके बच्चे को थैलेसीमिया के निम्न में कोई लक्षण हैं तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें:
अत्यंत थकावट।
साँस लेने में कमी।
मुरझाये हुए से दिखाई देना।
चिड़चिड़ापन
त्वचा का पीला पड़ना (पीलिया)।
चेहरे की हड्डियों में विकृति।

इस बीमारी में रोगी का शरीर पीला पड़ जाता है,
रोगी के शरीर में शुद्ध खून बनना बंद हो जाता है,
हड्डियों का विकास रूक जाता है,
सोचने विचारने की क्षमता कम हो जाती है,
बच्चों में शरीर के विकास की दर कम हो जाती है,
बड़ो में थकावट अधिक होने लगती है,
थोड़ी बहुत मेहनत के बाद चक्कर आने लगते है,
इस बीमारी की रोकथाम हम आयुर्वेदिक तरीके से कर सकते है | जो इस प्रकार से है |
सर्वकल्प क्वाथ (sarvkalp kawath) :- ३०० ग्राम
बनाने की विधि :- एक बर्तन में लगभग ४०० मिलीलीटर पानी लें | इस पानी में एक चम्मच सर्वकल्प क्वाथ की मिलाकर इसे मन्द अग्नि पर पकाएं | थोड़ी देर पकने के बाद जब इसका पानी १०० मिलीलीटर रह जाए तो पानी को छानकर सुबह के समय और शाम के समय खाली पेट पीये |
सामग्री : –
कुमारकल्याण रस (kumar kalyan rasa) :- १- २ ग्राम
प्रवाल पिष्टी (praval pisti) :- ५ ग्राम
कहरवा पिष्टी (kaharva pisti) :- ५ ग्राम
मुक्ता पिष्टी (mukta pisti) :- ५ ग्राम
गिलोय सत (giloy sat) :- १० ग्राम
प्रवाल पंचामृत (praval panchamrit) :- ५ ग्राम
इन सभी आयुर्वेदिक औषधियों को आपस में मिलाकर एक मिश्रण बनाए | अब इस मिश्रण की बराबर मात्रा में ६० पुड़ियाँ बना लें और किसी डिब्बे में बंद करके रख दें | रोजाना एक – एक पुड़ियाँ और शाम के समय खाना खाने से आधा घंटा पहले ताज़े पानी के साथ या शहद के साथ खाएं |
सामग्री : –
कैशोर गुगुल (Kaishor guggal ) :- ४० ग्राम
आरोग्यवर्धिनी वटी(aarogaya vardhini vati):- २० ग्राम
इन दोनों औषधीयों की एक – एक गोली रोजाना सुबह और शाम के खाना खाने के बाद लें | इस औषधि को हल्के गर्म पानी के साथ लें |
सामग्री : –
धृतकुमारी स्वरस(Dhritkumari Savrasa) : – १० मिलीलीटर
गिलोय स्वरस (giloye Savrasa) :- १० मिलीलीटर
इन दोनों औषधियों में से किसी एक रस में गेहूँ के ज्वारे का रस मिलाकर पीये | इस उपचार को रोजाना सुबह और शाम खाली पेट पीये | बहुत लाभ मिलेगा |

अजवायन के रोग नाशक प्रयोग : Uses of Thyme to cure diseases

भारतीय खानपान में अजवाइन का प्रयोग सदियों से होता आया है। आयुर्वेद के अनुसार अजवाइन पाचन को दुरुस्त रखती है। यह कफ, पेट तथा छाती का दर्द और कृमि रोग में फायदेमंद होती है। साथ ही हिचकी, जी मचलाना, डकार, बदहजमी, मूत्र का रुकना और पथरी आदि बीमारी में भी लाभप्रद होती है।

सामान्य परिचय –
अजवाईंन की खेती सारे भारतवर्ष में होती है लेकिन पश्चिम बंगाल, दक्षिणी प्रदेश और पंजाब में अधिकता से पैदा होता है। इसके पौधे एक दो फुट ऊंचे और पत्ते छोटे आकार में कुछ कंटीले होते हैं। डालियों पर सफेद फूल गुच्छे के रूप में लगते हैं, जो पककर एवं सूख जाने पर अजवाइन के दानों में परिवर्तित हो जाते हैं। ये दाने ही हमारे घरों में मसाले के रूप में और औषधियों में उपयोग किए जाते हैं।
जरूरी सावधानियाँ –
1. अजवाइन पित्त प्रकृति वालों में सिर दर्द पैदा करती है और दूध कम करती है।
2. अजवाइन ताजी ही लेनी चाहिए क्योंकि पुरानी हो जाने पर इसका तैलीय अंश नष्ट हो जाता है जिससे यह वीर्यहीन हो जाती है। काढ़े के स्थान पर रस या फांट का प्रयोग बेहतर है। 3. अजवाइन का अधिक सेवन सिर में दर्द उत्पन्न करता है।
मात्रा (खुराक) : अजवाइन 2 से 5 ग्राम, तेल 1 से 3 बूंद तक ले सकते हैं।
गुण –
अजवाइन की प्रशंसा में आयुर्वेद में कहा गया है-“एका यमानी शतमन्न पाचिका” अर्थात इसमें सौ प्रकार के अन्न पचाने की ताकत होती है।
आयुर्वेदिक मतानुसार-
अजवाइन पाचक, तीखी, रुचिकारक (इच्छा को बढ़ाने वाली), गर्म, कड़वी, शुक्राणुओं के दोषों को दूर करने वाली, वीर्यजनक (धातु को बढ़ाने वाला), हृदय के लिए हितकारी, कफ को हरने वाली, गर्भाशय को उत्तेजना देने वाली, बुखारनाशक, सूजननाशक, मूत्रकारक (पेशाब को लाने वाला), कृमिनाशक (कीड़ों को नष्ट करने वाला), वमन (उल्टी), शूल, पेट के रोग, जोड़ों के दर्द में, वादी बवासीर (अर्श), प्लीहा (तिल्ली) के रोगों का नाश करने वाली गर्म प्रकृति की औषधि है।
यूनानी मतानुसार –
अजवाइन आमाशय, यकृत, वृक्क को ऊष्णता और शक्ति देने वाली, आर्द्रतानाशक, वातनाशक, कामोद्वीपक (संभोग शक्ति को बढ़ाने वाली), कब्ज दूर करने वाली, पसीना, मूत्र, दुग्धवर्द्धक, मासिक धर्म लाने वाली, तीसरे दर्जे की गर्म और रूक्ष होती है।
विभिन्न रोगों में अजवाइन से उपचार:-
1 पेट में कृमि (पेट के कीड़े) होने पर –
1) अजवायन के लगभग आधा ग्राम चूर्ण में इसी के बराबर मात्रा में कालानमक मिलाकर सोते समय गर्म पानी से बच्चों को देना चाहिए। इससे बच्चों के पेट के कीड़े मर जाते हैं। कृमिरोग में पत्तों का 5 मिलीलीटर अजवाइन का रस भी लाभकारी है।
2) अजवाइन को पीसकर प्राप्त हुए चूर्ण की 1 से 2 ग्राम को खुराक के रूप में छाछ के साथ पीने से पेट के कीड़े समाप्त हो जाते हैं।
3) अजवाइन के बारीक चूर्ण 4 ग्राम को 1 गिलास छाछ के साथ पीने या अजवाइन के तेल की लगभग 7 बूंदों को प्रयोग करने से लाभ होता है।
4) अजवाइन को पीसकर प्राप्त रस की 4 से 5 बूंदों को पानी में डालकर सेवन करने आराम मिलता है।
5) आधे से एक ग्राम अजवाइन का बारीक चूर्ण करके गुड़ के साथ मिलाकर छोटी-छोटी गोलियां बना लें। इसे दिन में 3 बार खिलाने से छोटे बच्चों (3 से लेकर 5 साल तक) के पेट में मौजूद कीड़े समाप्त हो जाते हैं।
6) अजवाइन का आधा ग्राम बारीक चूर्ण और चुटकी भर कालानमक मिलाकर सोने से पहले 2 गाम की मात्रा में पिलाने से पेट में मौजूद कीड़े समाप्त हो जाते हैं।
7) अजवाइन का चूर्ण आधा ग्राम, 60 ग्राम छाछ के साथ और बड़ों को 2 ग्राम चूर्ण और 125 मिलीलीटर छाछ में मिलाकर पिलाने से लाभ होता है। अजवाइन का तेल 3 से 7 बूंद तक देने से हैजा तथा पेट के कीड़े नष्ट हो जाते हैं।
8) 25 ग्राम पिसी हुई अजवाइन आधा किलो पानी में डालकर रात को रख दें। सुबह इसे उबालें। जब चौथाई पानी रह जाये तब उतार कर छान लें। ठंडा होने पर पिलायें। यह बड़ों के लिए एक खुराक है। बच्चों को इसकी दो खुराक बना दें। इस तरह सुबह, शाम दो बार पीते रहने से पेट के छोटे-छोटे कृमि मर जाते हैं।
9) अजवाइन के 2 ग्राम चूर्ण को बराबर मात्रा में नमक के साथ सुबह-सुबह सेवन करने से अजीर्ण (पुरानी कब्ज), जोड़ों के दर्द तथा पेट के कीड़ों के कारण उत्पन्न विभिन्न रोग, आध्मान (पेट का फूलना और पेट में दर्द आदि रोग ठीक हो जाते हैं।
10) पेट में जो हुकवर्म नामक कीडे़ होते हैं, उनका नाश करने के लिए अजवाइन का बारीक चूर्ण लगभग आधा ग्राम तक खाली पेट 1-1 घंटे के अंतर से 3 बार देने से और मामूली जुलाब (अरंडी तैल नही दें) देने से पेट के कीड़े निकल जाते हैं। यह प्रयोग, पीलिया के रोगी और निर्बल पर नहीं करना चाहिए।

यूरिन थेरापी :मूत्र से करें रोगों का इलाज: Urine Therapy: urine to treat diseases

परिचय-मूत्र चिकित्सा के बारे मे जहा बाइबिल मे जिक्र है वही आयुर्वेद मे इसका विस्तृत विवरण और रोगो का निदान है आयुर्वेद मे 9 प्रकार के मूत्र के बारे मे जिक्र है वर्तमान मे गोमूत्र का प्रचलन बड़ी तेजी से बढने का मुख्य कारण इससे उन रोगो का निदान भी हो रहा है जिनका प्रचलित किसी भी पद्धति मे इलाज नही है ,परन्तु यह लेख स्वमूत्र चिकित्सा के बारे मे और अनुभव के बाद लिखा हुआ है सामान्यतः स्वमूत्र चिकित्सा का सिद्धांत ,प्राकृतिक भोजन मे ही पूर्ण स्वास्थ्य के तत्व होते है के आधार पर है जैसे जैसे शरीर की आयु बढ़ती है वैसे-वैसे शारारिक क्षमता घटने के कारण स्वास्थ्य के मुख्य तत्व मूत्र मे विसर्जित होने लगते है यदि इन्ही तत्वो को पुनः लिया जाए तो शरीर स्वस्थ्य होने लगता है चिकित्सा मे स्वमूत्र का मुख्य तीन प्रकार से प्रयोग किया जाता है
1.बाह्य रूप से -इसमे शरीर पर मालिश इत्यादि है
2.अतः करण रूप से -इसमे स्वमूत्र को पिया जाता है
3.गंध द्वारा- स्वमूत्र की गंध को सुंघकर चिकित्सा की जाती है

स्वमूत्र का प्रयोग –
अतः करण रूप मे इसका प्रयोग जहा इसको तुरंत विसर्जित वाले का सेवन किया जाता है वही बाह्य रूप मे इसका प्रयोग तुरंत विसर्जित से लेकर 9 दिन तक पुराने वाले का प्रयोग किया जाता है इसमे प्रतिदिन एक बोतल भरतेहुए 9 बोतल भर लेते हैं 10 वे दिन ,पहली दिन वाली बोतल अर्थात 9 दिन पुराने मूत्र से शरीर पर चर्म रोग ,अन्य दर्दों वाले स्थानो पर मालिश लगातार 15-20 दिन की जाए तो चर्म व अन्य रोग दूर हो जाते हैं वही तुरंत विसर्जित वाले मूत्र को आंख,कान दर्द, जैसे अनेक रोगो मे इसकी बूंद डालकर इसका प्रयोग किया जा सकता है यदि बॉल झडते है तब इससे इनको धोया जाए तो उनका झड़ना बंद हो जाता है परहेज के नाम पर मात्र साबुन शेम्पू का प्रयोग नही करना है खाने के नाम पर मात्र सात्विक भोजन करना है ये तो मात्र कुछ उदहारण है मात्र उपरोक्त सरल विधि विधान से स्वमूत्र चिकित्सा द्वारा लगभग सभी रोगों का इलाज है इस पद्धति मे पहले रोग अपने चरम अवस्था मे आकर धीमे-धीमे उसका शमन होने लगता है यदि सामान्य अवस्था मे स्वमूत्र चिकित्सा को किया जाए तो तो शरीर उत्तम स्वास्थ्य को प्राप्त करता जाता है तब स्वमूत्र को जिसे हम सबसे घ्रृणित व त्याज्य मानते है वह तो हमारी सभी रोगो की रामवाण दवा है अर्थात एक अनार( स्वमूत्र),सौ बीमार की दवा है यह स्वमूत्र चिकित्सा मानव के लिए ही नही ,पशुयों के लिए भी उतनी उपयोगी है जितनी मानव के लिए .वैसे दवा दवे(रहस्य) की होती है और प्राण के मूल्य पर ,औषधि का हर रूप स्वीकार होता है तब क्या समाज मे स्वमूत्र का औषधि रूप प्रचलित हो पाएगा ? जिसको कभी हमारे भूतपूर्व प्रधान मंत्री मोरार जी देसाई ने जीवन जल का नाम दिया था अर्थात कलियुग का गंगाजल.

धतूरा के ओषधीय उपयोग: Medicinal use of Datura

आयुर्वेद के ग्रंथों में अनेक औषधीय गुणों से युक्त वनस्पतियों का वर्णन मिलता है। आज मैं आपको एक ऐसी ही औषधीय वनस्पति के बारे मे उल्लेख करूंगा जिसका नाम धतूरा है। यूं तो ईश्वर को सभी वनस्पतियाँ प्रिय होती हैं, लेकिन धतूरा इसके औषधीय गुणों के कारण एवं सरंक्षण के उद्देश्य से शिवजी को विशेष प्रिय है। आचार्य चरक ने इसे ”कनक” तथा सुश्रुत ने ”उन्मत्त” नाम से संबोधित किया है।
परिचय-
धतूरे का पौधा सारे भारत में सर्वत्र सुगमता के साथ मिलता है। आमतौर पर यह खेतों के किनारे, जंगलों में, गांवों में और शहरों में यहां-वहां उगा हुआ दिख जाता है। भगवान शिव की पूजा के लिए लोग इसके फूल और फलों का उपयोग करते हैं। धतूरा सफेद, काला, नीला, पीला तथा लाल फूल वाला 5 जातियों का मिलता है। इसका पौधा 170 सेमी तक ऊंचा तथा झाड़ीदार होता है। इसकी तना और शाखाएं बैंगनी या हल्के काले रंग की होती हैं। इसके पत्ते दिल के आकार के, अण्डे के समान, चिकने दन्तुर या मुड़े-मुडे़ 3 से 7 इंच तक लम्बे होते हैं। इसके फूल घंटाकार तुरही के आकार के एक साथ 2-2 या 3-3 सफेद बैंगनी चमक लिए हुए 5 से 7 इंच तक लम्बे हो जाते हैं। इसके फल हरे रंग के कांटेदार, गोल-गोल नीचे की ओर लटके 4 खण्डों से युक्त होते हैं। धतूरा के फल पकने पर अपने आप अनियमित ढंग से फट जाते हैं जिनमें से चटपटे, मटमैले भूरे, वृक्काकार, अनेक बीज निकलकर बाहर निकल जाते हैं।

नीम के विभिन्न उपयोग: Different use of neem

 नीम में इतने गुण हैं कि ये कई तरह के रोगों के इलाज में काम आता है। यहाँ तक कि इसको भारत में ‘गांव का दवाखाना’ कहा जाता है। यह अपने औषधीय गुणों की वजह से आयुर्वेदिक मेडिसिन में पिछले चार हजार सालों से भी ज्यादा समय से इस्तेमाल हो रहा है। नीम को संस्कृत में ‘अरिष्ट’ भी कहा जाता है, जिसका मतलब होता है, ‘श्रेष्ठ, पूर्ण और कभी खराब न होने वाला।’
नीम के अर्क में मधुमेह यानी डायबिटिज, बैक्टिरिया और वायरस से लड़ने के गुण पाए जाते हैं। नीम के तने, जड़, छाल और कच्चे फलों में शक्ति-वर्धक और मियादी रोगों से लड़ने का गुण भी पाया जाता है। इसकी छाल खासतौर पर मलेरिया और त्वचा संबंधी रोगों में बहुत उपयोगी होती है।
इसके पत्तों में मौजूद बैक्टीरिया से लड़ने वाले गुण मुंहासे, छाले, खाज-खुजली, एक्जिमा वगैरह को दूर करने में मदद करते हैं। इसका अर्क मधुमेह, कैंसर, हृदयरोग, हर्पीस, एलर्जी, अल्सर, हिपेटाइटिस (पीलिया) वगैरह के इलाज में भी मदद करता है।
नीम के बारे में उपलब्ध प्राचीन ग्रंथों में इसके फल, बीज, तेल, पत्तों, जड़ और छिलके में बीमारियों से लड़ने के कई फायदेमंद गुण बताए गए हैं। प्राकृतिक चिकित्सा की भारतीय प्रणाली ‘आयुर्वेद’ के आधार-स्तंभ माने जाने वाले दो प्राचीन ग्रंथों ‘चरक संहिता’ और ‘सुश्रुत संहिता’ में इसके लाभकारी गुणों की चर्चा की गई है।
नीम के पत्तों में जबरदस्त औषधीय गुण तो है ही, साथ ही इसमें प्राणिक शक्ति भी बहुत अधिक है। अमेरिका में आजकल नीम को चमत्कारी वृक्ष कहा जाता है। दुर्भाग्य से भारत में अभी लोग इसकी ओर नहीं दे हैं। अब वे नीम उगाने की कोशिश कर रहे हैं, क्योंकि नीम को अनगिनत तरीकों से इस्तेमाल किया जा सकता है। अगर आपको मानसिक बिमारी है, तो भारत में उसको दूर करने के लिए नीम के पत्तों से झाड़ा जाता है। अगर आपको दांत का दर्द है, तो इसकी दातून का इस्तेमाल किया जाता है। अगर आपको कोई छूत की बीमारी है, तो नीम के पत्तों पर लिटाया जाता है, क्योंकि यह आपके सिस्टम को साफ कर के उसको ऊर्जा से भर देता है। अगर आपके घर के पास, खास तौर पर आपकी बेडरूम की खिड़की के करीब अगर कोई नीम का पेड़ है, तो इसका आपके ऊपर कई तरह से अच्छा प्रभाव पड़ता है।
बैक्टीरिया से लड़ता नीम
दुनिया बैक्टीरिया से भरी पड़ी है। हमारा शरीर बैक्टीरिया से भरा हुआ है। एक सामान्य आकार के शरीर में लगभग दस खरब कोशिकाएँ होती हैं और सौ खरब से भी ज्यादा बैक्टीरिया होते हैं। आप एक हैं, तो वे दस हैं। आपके भीतर इतने सारे जीव हैं कि आप कल्पना भी नहीं कर सकते। इनमें से ज्यादातर बैक्टीरिया हमारे लिए फायदेमंद होते हैं। इनके बिना हम जिंदा नहीं रह सकते, लेकिन कुछ ऐसे भी होते हैं, जो हमारे लिए मुसीबत खड़ी कर सकते हैं। अगर आप नीम का सेवन करते हैं, तो वह हानिकारक बैक्टीरिया को आपकी आंतों में ही नष्ट कर देता है।
आपके शरीर के भीतर जरूरत से ज्यादा बैक्टीरिया नहीं होने चाहिए। अगर हानिकारक बैक्टीरिया की तादाद ज्यादा हो गई तो आप बुझे-बुझे से रहेंगे, क्योंकि आपकी बहुत-सी ऊर्जा उनसे निपटने में नष्ट हो जाएगी। नीम का तरह-तरह से इस्तेमाल करने से बैक्टीरिया के साथ निपटने में आपके शरीर की ऊर्जा खर्च नहीं होती।
आप नहाने से पहले अपने बदन पर नीम का लेप लगा कर कुछ वक्त तक सूखने दें, फिर उसको पानी से धो डालें। सिर्फ इतने से ही आपका बदन अच्छी तरह से साफ हो सकता है – आपके बदन पर के सारे बैक्टीरिया नष्ट हो जाएंगे। या फिर नीम के कुछ पत्तों को पानी में डाल कर रात भर छोड़ दें और फिर सुबह उस पानी से नहा लें।
एलर्जी के लिए नीम
नीम के पत्तों को पीस कर पेस्ट बना लें, उसकी छोटी-सी गोली बना कर सुबह-सुबह खाली पेट शहद में डुबा कर निगल लें। उसके एक घंटे बाद तक कुछ भी न खाएं, जिससे नीम ठीक तरह से आपके सिस्टम से गुजर सके। यह हर प्रकार की एलर्जी – त्वचा की, किसी भोजन से होनेवाली, या किसी और तरह की – में फायदा करता है। आप सारी जिंदगी यह ले सकते हैं, इससे कोई नुकसान नहीं होगा। नीम के छोटे-छोटे कोमल पत्ते थोड़े कम कड़वे होते हैं, वैसे किसी भी तरह के ताजा, हरे पत्तों का इस्तेमाल किया जा सकता है।