आज़ादी के बाद आफत बने ‘पाक अधिकृत कश्मीर’ के बारे में 21 ऐसी बातें, जो आपको जाननी चाहिए!(part-2)

source url 8. अलगाववादियों के लिए ये दिन ‘ब्लैक डे’ की तरह होता है.

source: jkunity

http://maidinmidland.com/category/maid-in-midland/ 9. PoK का सुदूर उत्तरी पार्ट, जो चीन के हिस्से के तौर पर दिखाया जाता है, दरअसल 1963 में हुए Sino-Pakistan समझौते का परिणाम है. तकनीकी रूप से पाकिस्तानियों ने इस भू-भाग को चीन को भेंट कर दिया. इस क्षेत्र के लिए नक़्शे में लिखा है कि ‘यह क्षेत्र 1963 में पाकिस्तान द्वारा चीन को सौंप दिया गया है.’

source: theindiadna

go here 10. PoK का दावा है कि उसकी खुद की सरकार द्वारा संचालित विधान सभा है, जबकि ये सच सबको पता है कि ये पाकिस्तान के नियंत्रण में है.

source: blogspot

11. PoK के राष्ट्रपति राज्य के मुखिया हैं, जबकि प्रधानमंत्री मुख्य कार्यकारी अधिअकरी हैं, जिनके अंतर्गत मंत्रिपरिषद काम करती है.

source: i.ytmg, President Masood Khan

12. ये भी एक तथ्य है कि PoK का अपना सुप्रीम कोर्ट और एक हाई कोर्ट भी है.

source: i.dawn

13. दक्षिण एशिया के सबसे बड़े आतंकी संगठन लश्करे तैयबा के कई ट्रेनिंग कैम्प पाक अधिकृत कश्मीर में हैं.

source: debatepost

14. मुंबई हमलों के एकमात्र जीवित पकड़े गए आतंकी अजमल कसाब को PoK की राजधानी मुज़फ्फराबाद में ही समुद्री युद्ध प्रशिक्षण दिया गया था. जो कि पाकिस्तान के नियंत्रण में है.

source: intoday

 

15. PoK में कोई भी स्वतंत्र मीडिया नहीं है. यहां सब कुछ पाक सरकार के नियंत्रण में है. अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का यहां कोई अधिकार नहीं दिया गया है.

source: economictimes

16. केवल ‘आज़ाद कश्मीर’ रेडियो के प्रसारण को ही यहां अनुमति दी गई है.

source: economictimes

17. PoK की 87% आबादी खेती करती है. यहां की अर्थव्यवस्था मुख्य तौर पर कृषि पर निर्भर करती है. पर्यटन भी यहां के लोगों की आर्थिक मदद करता है. ऐसा भी कहा जाता है कि ब्रिटिश मीरपुरी समुदाय यहां पर पैसे भेजता है.

source: blogspot

18. 1971 के युद्ध के अलावा, अब तक भारत-पाक के बीच हुए सभी विवादों का मुख्य कारण PoK ही है.

source: malyalaydaily

19. PoK का मसला दोनों देशों के लिए अब सिर्फ़ सम्मान का मसला है. नहीं तो, भारत या पाकिस्तान किसी भी देश की अर्थव्यवस्था पर इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ने वाला है. दोनों देशों की जो भी सरकार इस मसले पर नर्म रुख अपनाती है, उसकी पार्टी के लिए ये सुसाइड करने जैसा माना जाता है.

source: journalgazetee

20. स्वतंत्र भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित नेहरु द्वारा PoK का मुद्दा संयुक्त राष्ट्र तक ले जाना काफी लोगों द्वारा एक गलत निर्णय माना जाता है. यही वजह है कि ये मुद्दा अब भी विवाद की वजह बना हुआ है.

source: frontline

21. भारत-पाक के बीच 1947 में हुए युद्ध के दौरान संयुक्त राष्ट्र ने बीच में हस्तक्षेप किया और सीज़फायर का आदेश दिया. लेकिन संयुक्त राष्ट्र द्वारा जनमत संग्रह की मांग को आगे नहीं बढ़ाया जा सका, क्योंकि बहुत से मसले हल नहीं किए जा सके थे. तब से लेकर अब तक पाक और भारत के बीच तनाव लगातार बढ़ता ही गया.